COPYRIGHT © RAJIV MANI, Journalist, Patna

COPYRIGHT © RAJIV MANI, Journalist, Patna
COPYRIGHT © RAJIV MANI, Journalist, Patna

गुरुवार, 26 जनवरी 2017

Happy Republic Day

☻☻

प्रधानमंत्री श्रम पुरस्कार घोषित

नई दिल्ली : केंद्र सरकार ने वर्ष 2015 के लिए प्रधानमंत्री श्रम पुरस्कारों की घोषणा कर दी है। ये पुरस्कार केंद्र और राज्य पुरस्कारों के सार्वजनिक क्षेत्र उपक्रमों तथा निजी क्षेत्र इकाइयों के 56 कामगारों को प्रदान किए जायेंगे। ये कामगार उन उद्यमों से संबंधित हैं, जहां 500 या उससे अधिक लोग काम करते हैं। ये पुरस्कार कामगारों के उत्कृष्ट प्रदर्शन, साहस और उत्पादकता में शानदार योगदान के लिए दिए जाते हैं।
इस वर्ष प्रतिष्ठित श्रम रत्न पुरस्कार के लिए कोई योग्य नामांकन नहीं मिला। श्रम भूषण पुरस्कार के लिए चार नामांकन, श्रम वीर / वीरांगना पुरस्कार के लिए 24 नामांकन और श्रम श्री / श्रम देवी पुरस्कार के लिए 28 नामांकन प्राप्त किए गए। हालांकि श्रम पुरस्कारों की कुल संख्या 33 है, लेकिन पुरस्कार तीन महिलाओं सहित 56 लोगों को दिए जा रहे हैं, क्योंकि कुछ पुरस्कार संयुक्त रूप से या कामगारों के दलों को दिए जायेंगे। इनमें 40 कामगार सार्वजनिक क्षेत्र और 16 कामगार निजी क्षेत्र के हैं।
श्रम भूषण
श्रम भूषण प्राप्त करने वालों की कुल संख्या चार है। पुरस्कार के तहत 1 लाख रुपये नकद और ‘सनद’ दी जाती है। चार नामांकितों में से एक महिला को भी यह पुरस्कार दिया जा रहा है। इनके नाम - एम रामकृष्णन, बीएचईएल, अभिलाषा पेठे, एसएआईएल, श्यामसुंदर गंगाम पडेकर, एल एंड टी लिमिटेड मुंबई और रतन कुमार शामराव कांबले, बजाज ऑटो लिमिटेड, औरंगाबाद हैं।
श्रम वीर / वीरागंना
इन पुरस्कारों की कुल संख्या 12 है। पुरस्कार के तहत 60 हजार रुपये नकद और ‘सनद’ दी जाती है। पुरस्कार प्राप्त करने वालों की कुल संख्या 24 है, जिनमें एक महिला भी शामिल है। यह पुरस्कार सार्वजनिक क्षेत्र उपक्रम और निजी क्षेत्र के लोगों को दिए जायेंगे, जिनमें - कुमबुरू कल्याण चक्रवर्ती, राष्ट्रीय इस्पात निगम लिमिटेड, विशाखापट्टनम, आर. नटराजन, जी वेनकटेशरालु, बीएचईएल, त्रिची, जितेन्द्र सिंह, बीएचईएल, भोपाल, मनीष पंड्या, मनीष देशपांडे, विलास कुमार झा, जगदेव राम मौर्य, पी. टाटा राव, एसएआईएल, भिलाई स्टील प्लांट, जगन्नाथ साहू, आलोक कुमार जेना, देवेन्द्र भुजबल, बनमाली प्रधान, मानस रंजन पांडा, प्रादीप्त किशोर प्रधान, पी. कबिन्द्र कुमार पात्रा, एसएआईएल, इंडिया लिमिटेड, राउरकेला, विनोद कुमार, राजबीर सिंह, भेल, हरिद्वार, गीतेश सीतेश, टाटा स्टील लिमिटेड, जमशेदपुर, निमेश हसमुखभाई दर्जी, गुजरात नर्मदा वैली फर्टिलाइजर्स, भरूच, सुहैल एके अपोलो टायर्स लिमिटेड, चलकुडी, केरल, हरि दनयांदियो पाटिल, एल एंड टी लिमिटेड मुंबई, हीरेकर संतोष, ब्रह्मोस एयरोस्पेस, हैदराबाद और आरती बाला, टाटा स्टील लिमिटेड, जमशेदपुर शामिल हैं।
श्रम श्री / देवी
श्रम श्री / देवी प्राप्त करने वालों की कुल संख्या 16 है। पुरस्कार के तहत 40 हजार रुपये नकद और ‘सनद’ दी जाती है। पुरस्कार प्राप्त करने वालों की कुल संख्या 28 है, जिनमें एक महिला भी शामिल है। यह पुरस्कार सार्वजनिक क्षेत्र उपक्रम और निजी क्षेत्र के लोगों को दिए जायेंगे, जिनमें - मनदेम सुब्रमण्या कुमार, राष्ट्रीय इस्पात निगम लिमिटेड, विशाखापट्टनम, मनोहर सिंह तारागी, श्याम बिहारी, बीएचईएल, हरिद्वार, जसबीर सिंह, मन्नू लाल ठाकुर, प्रद्युम्न सिंह, सुरेंद्र पुरी, शिवगोपाल भंडारी, लाल पद्मलाल साहू, एसएआईएल, भिलाई स्टील प्लांट, प्रशांत कुमार नाइक, सेल, राउरकेला स्टील प्लांट, चोडसेट्टी बालाजी, रवि वेंकटेश्वर राव, बीएचईएल, हैदराबाद, अमर सिंह, राजकमल कुमार चैहान, भेल, हरिद्वार, बिन्दू कुरुप, सेल, भिलाई स्टील प्लांट, महेश कुमार खोडके, रवि नारायण, दिलीप कुमार राउतकर, घनश्याम प्रसाद अनेशवरी, बी. एम. के. अग्रवाल, सेल, भिलाई स्टील प्लांट, अरविंद कुमार, टाटा स्टील लिमिटेड, जमशेदपुर, कुंज बिहारी जयशंकर, टाटा स्टील लिमिटेड, जमशेदपुर, विश्वनाथ सावता जाधव, बजाज ऑटो लिमिटेड, औरंगाबाद, सतपाल सिंह, टाटा स्टील लिमिटेड, जमशेदपुर, वी. ब्रह्मम आचार्य, जेके पेपर लिमिटेड ओडिशा, के राम प्रसाद, ब्रह्मोस एयरोस्पेस, हैदराबाद, बिजन कुमार रॉय, टाटा स्टील लिमिटेड, जमशेदपुर और पुरुषोतम रेड्डी, टाटा स्टील लिमिटेड, जमशेदपुर शामिल हैं।
☺☺

मंगलवार, 10 जनवरी 2017

प्रवासी भारतीयों का भारत विकास प्रतिष्ठान

 संक्षिप्त खबरें 
नई दिल्ली : प्रवासी भारतीयों के भारत विकास प्रतिष्ठान (आईडीएफ-ओआई) की स्थापना केंद्र सरकार द्वारा प्रवासी भारतीयों द्वारा भारत के सामाजिक और विकास परियोजनाओं में जनउपयोगी सहयोग को सुगम बनाने हेतु गैर लाभकारी न्यास के रूप में की गई है। आईडीएफ-ओआई की अध्यक्षता केंद्रीय विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने की। वर्तमान में आईडीएफ-ओआई केंद्र सरकार की प्रमुख योजनाओं स्वच्छ भारत अभियान और राष्ट्रीय स्वच्छ गंगा अभियान और राज्य सरकार द्वारा प्रवासी भारतीयों के लिए वित्तीय सहायता हेतु चिन्हित किए गए परियोजनाओं में सहयोग प्रदान कर रहा है।
आईडीएफ-ओआई राज्य सरकारों के साथ स्वच्छता, शिक्षा, पेयजल, महिला सशक्तिकरण आदि क्षेत्रों में कार्य कर रहा है। प्रवासी भारतीय व्यक्तिगत रूप से, व्यक्ति समूह या संबंधित भारतीय संस्थाओं द्वारा भी सहयोग कर सकते हैं।
प्रवासी भारतीय दिवस सम्मेलन 2017 के पूर्ण सत्र में “भारतीय प्रवासी-भारत की विकास गाथा के उत्प्रेरक” की अध्यक्षता केंद्रीय विदेश राज्य मंत्री एमजे अकबर ने की। सत्र में आईडीएफ-ओआई द्वारा प्रवासी भारतीयों के सामाजिक और विकास प्रयासों में प्रभावी रूप से सहयोग करने और जुड़ने पर विचार विमर्श किया गया। उन्होंने आईडीएफ-ओआई के साथ कार्य करने में रुचि व्यक्त की और परियोजना क्रियान्यवन और बजट उपयोग में विश्वसनीयता की आवश्यकता, जैसे - उत्तरदायित्व, कार्यक्षमता और पारदर्शिता की आवश्यकता पर बल दिया।
सत्र की समाप्ति पर आईडीएफ-ओआई को प्रवासी भारतीयों से सहयोग भी प्राप्त हुआ
आनलाइन सहयोग के लिए https://idfoi.nic.in/contribute.asp लिंक देखे।

एक करोड़ रुपये की विदेशी मुद्राएं जब्त

नई दिल्ली : वित्त मंत्रालय के राजस्व खुफिया निदेशालय (डीआरआई) की दिल्ली जोनल यूनिट (डीजेडयू) ने नई दिल्ली स्थित आईजीआई हवाई अड्डे पर हवाला रैकेट का पर्दाफाश किया और लगभग एक करोड़ रुपये मूल्य की विदेशी मुद्राएं जब्त कीं। इस रैकेट के तहत विदेशी मुद्रा की तस्करी के लिए विशेष शातिर तरीका अपनाया जाता था।
डीआरआई की दिल्ली जोनल यूनिट के अधिकारियों ने कड़ी निगरानी रखते हुए नई दिल्ली स्थित आईजीआई हवाई अड्डे के टर्मिनल 3 पर एक घरेलू यात्री और दुबई जाने की तैयारी कर रहे एक विदेशी यात्री को उस समय जा पकड़ा, जब वे आईजीआई हवाई अड्डे के विशेष सुरक्षा वाले क्षेत्र में स्थित एक शौचालय में अपने-अपने बैगों की अदला-बदली कर रहे थे। डीआरआई के अधिकारियों ने इन दोनों यात्रियों से 1,00,88,237 रुपये मूल्य की विभिन्न राशियों वाले सऊदी रियाल, यूएई दिरहम और अमेरिकी डॉलर जब्त किए हैं।
घरेलू यात्री ने एयर इंडिया की भुवनेश्वर जाने वाली अंतर्राष्ट्रीय उड़ान एआई 075 का एक टिकट बुक किया था, जिसका परिचालन ‘हब एंड स्पोक’ मॉडल पर किया जा रहा था। वह केवल उस विदेशी यात्री को विदेशी मुद्राएं सौंपने के उद्देश्य से ही सफर कर रहा था, जो कस्टम क्लीयरेंस के साथ-साथ एक घरेलू यात्री के रूप में आव्रजन और सुरक्षा जांच के बाद जेट एयरवेज की उड़ान से दुबई जाने की तैयारी में था। कस्टम द्वारा विदेशी यात्रियों की कड़ी जांच से बचने के लिए ही इस विदेशी यात्री ने यह तरीका अपनाया था। आमतौर पर तस्कर विदेशी मुद्राएं दुबई ले जाते हैं और वहां से सोना लाते हैं, जिसकी मांग नोटबंदी के बाद अत्यंत ज्यादा बढ़ गई थी। इस दिशा में आगे की जांच प्रगति पर है। 

छह शहरों में ट्रेश स्कीमर लगाए जाएंगे 

नई दिल्ली : राष्ट्रीय स्वच्छ गंगा मिशन इस महीने के पहले सप्ताह से ऋषिकेश, हरिद्वार, गढ़मुक्तेश्वर, साहिबगंज, कोलकाता और नवद्वीप में ट्रेश स्कीमर से गंगा के सतह की सफाई का कार्य शुरू करने जा रहा है। यह कार्य शहरी स्थानीय निकायों की देखरेख में किया जाएगा और इसकी निगरानी के लिए राष्ट्रीय और राज्य स्तर पर समितियों का गठन किया गया है। राज्य स्तर पर प्रधान सचिव की अध्यक्षता में राज्य कार्यक्रम प्रबंधन ग्रुप द्वारा निगरानी की जाएगी। जिला स्तर पर जिलाधीश की अध्यक्षता में समिति द्वारा निगरानी रखी जाएगी।
नदी की सतह की सफाई के लिए पिछले वर्ष इलाहाबाद, कानपुर, वाराणसी, मथुरा, वृन्दावन और पटना में ट्रेश स्कीमर से सफाई का कार्य निगमित सामाजिक उत्तरदायित्वि के तहत शुरू किया गया था। इस दौरान टनों मात्रा में कचरा इकट्ठा कर निर्धारित स्थानों पर पहुंचाया गया था। इसके बहुत अच्छे परिणाम देखने को मिले थे।
आने वाले समय में अन्य चयनित शहरों में भी ट्रेश स्कीमर से नदी की सतह की सफाई शुरू की जाएगी। नमामि गंगे कार्यक्रम गंगा नदी को बचाने का एक एकीकृत प्रयास है और इसके अंतर्गत व्यापक तरीके से गंगा की सफाई करने को प्रमुखता दी गई है। इस कार्यक्रम के अंतर्गत नदी की सतही गंदगी की सफाई सीवरेज उपचार के लिए बुनियादी ढांचे, नदी तट का विकास, जैव विविधता, वनीकरण और जन जागरूकता जैसी प्रमुख गतिविधियां शामिल हैं।
⇯⇯